कश्मीरी लहसुन के फायदे | kashmiri lahsun ke fayde in hindi

कश्मीरी लहसुन की सांस्कृतिक जानकारी

kashmiri lahsun ke fayde

बोहोत सालो पहले उत्तर भारत के हिमालय के पहाड़ो में पर्वतारोही जब पहाड़ चढाने जाते तब ऑक्सीजन की क्षमता बढ़ने, ऊर्जा को बढ़ने और रक्त परिसंचरण को बनाये रखने के लिए कश्मीरी लहसिन का सेवन करते थे।

मधुमय, हृदय रोग , उच्च रक्तचाप जैसी बिमारिओ के लिए यह निर्धारित है ।

समुद्र तल से १८०० मिटर की दुरी पर कश्मीरी लहसुन उगाया जाता है, जहा पर ऑक्सीजन की मात्रा बोहोत काम होती है ।
यह उन कुछ उन पौधों में से है जो ठण्ड और ऊंचाई वाले वातावरण में जीवित रहते है ।

यह लहसुन हमें सिर्फ ऑनलाइन विक्रेताओसे या आयुर्वेदिक उत्पादन विशेषणीयता वाले स्टोर पर ही मिल सकती है ।

कश्मीरी लहसुन का स्वाद (kashmiri lahsun)

कश्मीरी लहसुन में एक सख्त, सुनहरा भूरा भरा होता है और यह एक लौंग की तरह दिखाई देती है ।
यह तीखा लहसुन जैसा स्वाद प्रदान करता है ।

कश्मीरी लहसुन के बारे में तथ्य (kashmiri lahsun)

यह लहसुन हिमालय की उच्च जगहों पर उगाई जाती है और यह साल में सिर्फ एक बार किया जाता है ।
इसके स्वास्त्य लाभों के लिए इसे पुरे भारत में जाना जाता है ।
यौगिकों और गुणोंके सन्दर्भ में कश्मीरी लहसुन साधाहरण लहसुन से सात गुना अधिक प्रभावी होती है ।

कश्मीरी लहसुन के फायदे (kashmiri lahsun )

कश्मीरी लहसुन में मँगनेसे, विटामिन बी६ और सी, साथी में ताम्बा और फॉस्फोरस होता है ।
इसमें कैल्शियम और विटामिन बी १ भी शामिल होता है ।

इस लहसुन से एलिसन बनाया जाता है जो लहसुन को तीखा स्वाद देता है ।

१, उच्च कोलेस्ट्रॉल के स्तर को काम करने में मदद करता है
अध्यन से पता चला है की लहसुन २० मिलीग्राम/डीएल तक कोलेस्ट्रॉल कम करता है ।

२. खॉंसी और सिरदर्द को ठीक कर सकता है
वैज्ञानिको के द्वारा इस लहसुन का सेवन करने से ५०% से अधिक सर्दी और खांसी के जोखिम कम हो जाते है ।

३. मधुमय से दुरी रख सकते है
२-३ हिमालयन सिंगल लॉन्ग लहसुन का सेवन करने से रक्त शर्करा को स्तिर रखने में मदद मिलती है ।

४. हृदय रोग से दूर रह सकते है।
५. कैंसर से लड़ने में मदद हो सकती है ।

लहसुन से अधिक गन पाने के लिए लहसुन का ककमा बनाते है और इसका इस्तेमाल अन्य पदार्थोंमें करते है ।
कश्मीरी लहसुन ख़राब होने से बचने के लिए इसे ठंडी जगह पर रखा जाता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *